Life teach you everyday.

ज़िंदगी रोज कुछ न कुछ सिखाती है.

Motivational Story | Indian Yuva . 

दोस्तों. कई बार हमे अपने जीवन की छोटी – छोटी घटनाओ से भी बहुत कुछ सिखने को मिल जाता है. आपके साथ भी कुछ Incident ऐसे हुए होंगे. जिनको बाद में जब अपने Analyse किया होगा. तो आपको कुछ सिखने को मिला होगा. और जब हम अपने आप से सीखना शरू कर देते है. तो ज़िंदगी Positive होने लगती है.

ऐसे ही एक लकड़ी के कारोबारी था. उसने अपने दो मज़दूर सिर्फ लकड़ी काटने के लिए ही रखे थे. और उनका काम सिर्फ जंगल में जाकर बड़े – बड़े पेड़ काटना था. पहला मज़दूर 5 पेड़ को काटने के लिए 8 घंटे लगता था. और वही दूसरा मज़दूर 5 पेड़ को काटने के लिए सिर्फ 4 घंटे लगता था. एक दिन उनका मालिक उनके साथ जंगल में गया और वो उनके साथ जंगल में सिर्फ ये ही देखने गया था की पहला मज़दूर जिस काम को करने के लिए 8 घंटे लगता है. वही और उतना ही काम दूसरा मज़दूर सिर्फ 4 घंटे में कैसे कर देता है. और जब मालिक ने दूसरे मज़दूर को देखा तो उसे पता चला की दूसरा वाला मज़दूर पहले वाले मज़दूर से कम समय में इसलिए काम कर लेता था. क्योकि वो पहला 1 घंटा अपनी आरी जिसे पेड़ काटते है उसकी धार को तेज़ करता था और तब पेड़ काटता था. इसलिए जिस काम को पहले वाला मज़दूर 8 घंटे में करता था. वही काम दूसरा वाला मज़दूर सिर्फ 4 घंटे में कर देता था क्योकि उसकी आरी की धार तेज़ थी.

दोस्तों ऐसे ही हम अपनी Daily life में बहुत कुछ सिख सकते है. Daily हमारी लाइफ में कुछ ऐसा होता है जो हमे कुछ न कुछ सीखा जाता है. ज़रूरत है सिर्फ उन incident पर ध्यान दे. “मुझे सब आता है” इस attitude को छोड़े. क्योकि जिस दिन आप ये कहना शरू कर देते है की मुझे मत बाताओ “मुझे सब आता है”. उस दिन से आप नया सीखना बंद कर देते है. क्योकि आपको हर बार ऐसा ही लगेगा की आपको सब आता है. और आप अपनी दिमाग और सोच की धार को तेज़ नहीं कर पाएगे.


Share this post on Facebook, Twitter, Instagram And whatsapp .

Friends if you have any article ,  motivational story and any useful information. Then share us on “contact.indianyuva@gmail.com”  with your Name , Email and photo. If we like it then we will share with your name.

Also Read This Posts.

दो लड़को की कहानी | Story Of Two Boys.

फर्क सिर्फ नज़रिये का होता है.

आदते बदलो, तभी हालात बदलेंगे.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *