Happy Janmashtami.

जय श्री कृष्ण | Happy Janmashtami.

Happy Janmashtami | Indian Yuva .

जय श्री कृष्ण. दोस्तों आपको और आपके परिवार को मेरी तरफ से जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये. ये जन्माष्टमी आपके जीवन में सुख , शांति और सफलता लाये. हम जन्माष्टमी भगवन श्री कृष्ण के जन्मदिन के रूप में मानते है. और जन्माष्टमी एक ऐसा त्यौहार है. जिसे भारत के साथ विदेशो में भी बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है. भगवान श्री कृष्ण युगो-युगो से भारत और विदेश में रह रहे लोगो के आस्था के केंद्र है. भगवन श्री कृष्ण का जन्म मानव जीवन और धर्म की रक्षा के लिए हुआ था.

भगवन श्री कृष्ण की जन्माष्टमी रक्षाबंधन के बाद भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी 8 तिथि को मनाई जाती है. श्री कृष्ण देवकी और वासुदेव के 8 पुत्र थे. मथुरा राज्य का राजा कंस जो की बहुत अत्याचारी था. और दिन प्रति दिन उसके अत्याचार बढ़ते जा रहे थे. तब आकाशवाणी हुई की देवकी जो की कंस की बहन थी उसका 8 पुत्र उसका वध करेगा. ये आकाशवाणी जान कर कंस ने अपनी बहन देवकी और उसके पति वासुदेव को काल कोठरी में डाल दिया. कंस ने श्री कृष्ण से पहले देवकी माता के 7 बच्चो को मार दिया था. और जब श्री कृष्ण का जन्म हुआ तब भगवान विष्णु जी ने वासुदेव को श्री कृष्ण और गोकुल में माता यशोदा और नंद बाबा के पास पंहुचा दे. जहा श्री कृष्ण कंस मामा से सुरक्षित रहे. और श्री कृष्ण को हम सब जन्माष्टमी के रूप में मानते है.

इस दिन भगवन श्री कृष्ण के भक्त व्रत रखते है और रात को 12 बजने के बाद अपना व्रत तोड़ते है. जन्माष्टमी के दिन मंदिरो को सजाया जाता है. वहा खास पूजा और झाकियों का आयोजन भी होता है. कई जगह जन्माष्टमी के दिन दही हांड़ी का आयोजन भी होता है. जहा एक मटकी को रसी की मददत से आसमान में बांध दिया जाता है और काफी सरे लोग मिलके इसे फोड़ते है. दही हांड़ी एक प्रतियोगिता के रूप में होती है. जहा दो ग्रुप होते है और वो एक मटकी जिसमे छाछ , दही और माखन होता है. उसे रसी की मददत से आसमान में उचा बांध देते है. और फिर दोनों ग्रुप में मटकी को पहले फोड़ने की प्रतियोगिता होती है.

दोस्तों मेरी शुभकामनाये है की ये जन्माष्टमी आपके और परिवार के जीवन में खुशिया लाये.
जय श्री कृष्ण.


Share this post on Facebook, Twitter, Instagram And whatsapp .

Friends if you have any article ,  motivational story and any useful information. Then share us on “contact.indianyuva@gmail.com”  with your Name , Email and photo. If we like it then we will share with your name.

Also Read This Posts.

महाशिवरात्रि Special.

Inspiring Story गुरु और शिष्य.

Smile करते रहे और ख़ुश रहे.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *